रिश्तेदार के भाई की बेटी – भाग २

हनी बेसुधी के आलम में थी लेकिन जब मैंने उसकी ब्रा खोल कर निकाल दिया और उसकी 34 इन्च की गोरी चूचियाँ अनावृत हुई तो उसे जैसे होश आया और वो अपने दोनो हाथों से अपनी चूचियों को छिपाने लगी, हालांकि मुँह से कुछ नहीं कहा। मैंने उसकी चूचियों का रसपान करना चाहता था लेकिन वो अपने हाथ ही नहीं हटा रही थी।

एक देसी मां की सच्ची कहानी – 2

उस रात बाद में मैंने अपने पिताजी के खाते से श्रीमती प्रतिभा नायर की मित्र अनुरोध स्वीकार कर लिया और मैंने उन्हें एक आकस्मिक नमस्ते संदेश भेजा और अगले दिन मुझे अपनी माँ से एक … >> पूरी कहानी पढ़ें

भाभी और ननद की सेक्सी चुदाई

मेरी उम्र छब्बीस साल है और मैं सरकारी दफ़्तर में ऑडिटिंग ऑफिसर हूँ और हमारे दफ़्तर की शाखायें पूरे देश में हैं और अक्सर मुझे काम के सिलसिले में दूसरे शहरों की शाखा*ओं में कुछ … >> पूरी कहानी पढ़ें

Chalti Train Mein Ho Gaya Kand

मेरा नाम शान हे. में चाची के घर से वापस नागपुर मेरे कॉलेज जा रहा था. अचानक जाना हुआ इसलिए रिज़र्वेशन नही मिला. मैने सोचा अकेला हूँ समान भी नही है जनरल में ही चला … >> पूरी कहानी पढ़ें

Girlfriend Ke Sath, Ek Yaadgar Raat

ये बात उन दिनो की है जब मैं पड़ता था। वहाँ पर मेरी एक गर्लफ्रेंड हुआ करती थी। जिससे मैं बहुत प्यार करता था और शायद आज भी करता हूँ| मैं उसे अपने दिल से … >> पूरी कहानी पढ़ें

दोस्त बोले भाभी मान जाओ

सुबह उठते ही मैंने जब खिड़की खोली तो बाहर हल्का अंधेरा था और पक्षी चहचा रहे थे मैंने सोचा छत पर चलती हूं। मैं सीढ़ियों से चढ़ती हुई छत पर गई तो मैंने देखा मौसम … >> पूरी कहानी पढ़ें

बस में मिली अनजान लड़की के साथ मजे

हेल्लो दोस्तों, कैसे हैं आप लोग ? आशा करता हूँ की मस्त ही होंगे | दोस्तों मेरा नाम आशीष है और मैं बिहार का रहने वाला हूँ | मेरी उम्र २२ साल है और मैं … >> पूरी कहानी पढ़ें