रेशमा की काली चूत

थोड़ी देर हम दोनों लिपट कर बातें करने लगे , रेशमा बोलने लगी कि अब तो हर रात उसे मेरे साथ रंगीन करनी है , और वह मेरी रंडी बनकर मेरे साथ चुदती रहेगी , रेशमा के ऊपर लेटते हुए उसकी बातें सुनकर लन्ड फिर से खड़ा हो गया…

एक चुडक्कड़ परिवार की कहानी

उसने उसके दाहिने स्तन को खोल दिया और पहली बार उसने उसके नग्न भव्य स्तन को देखा, वह उसके खुले स्तन के ऊपर झुक गया और उसके निप्पल पर चूमा, लेकिन वह और अधिक चाहता था…

ऐसा मौका नहीं मिलेगा दोबारा

मैंने उसे अपनी तरफ कर लिया और उसके होंठ पर अपने होंठ लगा कर किस करने लगा तो वो भी मेरा साथ देते हुए मेरे होंठ को किस करने लगी | मैं उसके होंठ को चूसते हुए उसकी गांड को भी सहला रहा था…

बस में मिली लड़की की चुदाई

मैं उसके दूध के निप्पल को मुंह में रख कर खीच खीच कर चूसने लगा तो उसकी तेज सांसे चलने लगी और वो सांसे कुछ ही देर में सिसकियों में बदल गयी | मैं उसकी तेज सांसे को सुनकर और जोश में आ गया..

मेरी प्रेमिका के साथ पहला सेक्स अनुभव

मैंने उसकी पैंट खोली और उतार दी और वह मेरे सामने पूरी तरह से नंगी है। उसका शरीर इतना कोमल है और अपने शरीर को देखता रहता है। फिर मैंने उसे बिस्तर पर लिटा दिया और उसके पैर फैला दिए और वहाँ उसकी चूत थी…

नयी दुल्हनिया के तीखे तेवर

मैं समझ गयी ये दोनों एक दुसरे को चूम रहे हैं | मैंने और पास जाके देखा तो दोनों एक दम नंगे थे रिषभ का खड़ा हुआ लंड और मीनू की गांड साफ़ दिख रही थी | मीनू उसके लंड को सहला रही थी और रिषभ उसके दूध को चूस रहा था…

टीचर को उनकी बर्थडे पर चोदा

फिर में रानी के बूब्स को नाईटी के ऊपर से ही धीरे-धीरे दबाने लग गया. रानी धीरे-धीरे आवाज़े निकालने लग गई और सिसकियां देने लग गई.. हम्म ऊऊओ ससस्स और बोलने लगी और ज़ोर से दबाओ.. आज इसका सारा दूध पी जाओ. फिर मैंने रानी की नाइटी ऊतार दी..

दोस्त की बीवी गैर मर्द की दीवानी

अब भाभी ने उसके लंड को कसकर पकड़ा और कहा कि सिर्फ़ पेटीकोट ही उतारना, उसने अब अपना अंडरवियर भी उतारा और पूरा नंगा हो गया। अब वो उसके लंड को ज़ोर ज़ोर से मसलने लगी, इस बीच उसने भाभी की मेक्सी को और पेटीकोट दोनों ऊपर उठाए….

पानी और चुत

मैने उसकी साड़ी खींच डाली उसकी पीठ से सट कर उसके बोब्स को ब्लाउस के उपर से ही दबाने लगा और उसके होंठ चूस रहा था. मेरा लंड टाइट होकर उसकी गांड से मस्ती कर रहा था. मैने अपने हाथ उसके ब्लाउस मे डाल दिए और उसके बोब्स दबाने लगा….

शादी का सुख – पार्ट २

उफ़्फ़ ! जब उसने अपनी जीभ मेरी चूत के दाने पर फेरी तो मेरे तो बदन में जैसे बिजलियाँ दौड़ गई। मैंने अपनी दोनों जांघों में उसका सर दबा लिया और अपने दोनों हाथ उसकी पीठ पर फिराने लगी। गर्मी तो पहले ही मेरे दिमाग में चढ़ी पड़ी थी, सो दो मिनट में ही मैं तो झड़ गई…