लेडीज़ टॉयलेट

मैं एक बार दिल्ली से आगरा जा रहा था। मैं बस में दो वाली सीट पर जा कर बैठ गया। सर्दियों के दिन थे, बस खली पड़ी थी। अचानक एक मुस्लिम परिवार बस में चढ़ गया, वो कोई 12-14 जन थे। मेरे बगल वाली सीट पर एक 18-19 साल की लड़की बुर्के में आ कर … Read more….

चुत बधाई हो

दोस्तों मुझे आप सभी लंड का दास भी कह सकते हैं क्योंकि में बचपन से ही चूत का बहुत शौकीन रहा हूँ.. कभी कभी मैंने अपनी सोती हुई बहन की चूत को सूँघा है तो कभी अपनी माँ की पेंटी को। मेरे काले लंड में एक इस्प्रिंग है जब देखो जहाँ देखो खड़ा हो जाता … Read more….