मौसी बनी नौकरानी

Maid hot sex story लॉकडाउन में पैसों की कमी के चलते मेरी मौसी ने लोगों के घरों में बर्तन साफ ​​करना शुरू कर दिया। मैं भी उसके साथ जाने लगा। मैंने क्या देखा? दोस्तों मैं हूं आपकी दोस्त इलियाना, आज इस मेड हॉट सेक्स स्टोरी में मैं आपको अपनी जिंदगी का एक बहुत बड़ा सच बताने जा रहा हूं।

बात यह है कि मैं बेहद गरीब परिवार से हूं। मेरे पिताजी कार चलाते हैं और घर का रखरखाव ठीक चल रहा था, लेकिन लॉकडाउन के कारण पिताजी का काम बंद हो गया, इसलिए घर में भोजन की कमी थी। अब जब लोग घर से बाहर नहीं जा सकते हैं, लोग भी अपने घरों के अंदर बैठे हैं, तो हम जैसे गरीब लोग पैसा कैसे कमाते हैं। तो इन दिनों घर की हालत सुधारने की कोशिश में मम्मी ने पापा से बात की कि अगर वह लोगों के घरों में बर्तन-झाड़ू का काम कर सकते हैं तो कुछ पैसे घर में आ जाएंगे।

पापा ने भी मजबूरी में हां कर दी। कुछ दिनों बाद माँ को दो-तीन घरों में काम मिल गया। माँ लोगों के घरों में काम करने लगी। मैं भी अब बड़ी हो गई थी इसलिए माँ अक्सर मुझे अपनी मदद के लिए साथ ले जाती थीं। जैसे ही माँ ने बर्तन धोए, मैंने झाड़ू लगा दी। इस तरह हम दोनों मां-बेटी अपने घर का खर्च चलाने लगे। लेकिन फिर भी, यह काम नहीं कर रहा था; हाँ हम खाना खा सकते हैं लेकिन घर चलाने के लिए पर्याप्त नहीं है। करीब डेढ़ महीने तक ऐसा ही चलता रहा। लेकिन एक बात मैंने नोटिस की कि माँ का रवैया बदलने लगता है।

क्योंकि पिताजी घर पर खाली बैठे थे और माँ कमा रही थी, वह अक्सर पिताजी के साथ दुर्व्यवहार करती थी, पिताजी पर बकवास करती थी, और उन्हें सच बताती थी। मुझे समझ नहीं आ रहा था कि अगर मॉम ने कमाना शुरू कर दिया है तो पापा पर हावी क्यों होने लगी हैं। लेकिन इसके पीछे की वजह कुछ और थी, जो मुझे एक दिन पता चली। हुआ यूं कि जो घर हमारे बेहद करीब है वह हमारे चाचा का है। वह भी पापा की तरह ऑटो चलाता था लेकिन अब वह भी बेकार था। और आंटी भी मॉम की तरह लोगों के घरों में काम करती थीं। माँ और मौसी का आपस में बहुत कुछ लेना-देना था, दोनों बहुत अच्छे दोस्त थे।

Maid sex story लड़की पटाने की शर्त लगाई भाई से

और मौसी के कहने पर माँ लोगों के लिए घर का काम करने लगी। और इसके लिए चाचा-चाची ने पापा को मनाने में काफी मशक्कत की थी। कभी-कभी मेरी मौसी भी मुझे अपने साथ ले जाती थीं और मैं और मौसी दोनों साथ में काम करते थे। ऐसे ही एक दिन मैं और मेरी मौसी दोनों मिस्टर स्मिथ के घर काम पर गए। जो लोग स्मिथ होते हैं वे अक्सर मौसी के साथ कुछ हंसी-मजाक करने के आदी होते हैं। मौसी भी उन्हें बहुत हँसी से जवाब देती थीं। अब मैं ऐसा बच्चा भी नहीं था, मुझे लगने लगा था कि स्मिथ और मौसी के बीच कुछ चल रहा है।

लेकिन इसका खुलासा अभी नहीं हुआ, लेकिन कब तक छुपाया गया। एक दिन मैं ड्राइंग रूम में पोंछ रहा था और मेरी मौसी रसोई में बर्तन धो रही थी तभी अचानक बर्तन गिरने की तेज आवाज आई। मैंने तुरंत किचन की तरफ देखा तो मेरी आंखें फटी की फटी रह गईं। मिस्टर स्मिथ आंटी को पीछे से पकड़े हुए थे, और वो दोनों हाथों से मौसी के स्तन दबा रहे थे और मौसी उनके दाँत फाड़ रही थी। मैं इसे देखकर हैरान रह गया। उसके बाद मैं अक्सर उन पर नजर रखने लगा।

मैं जब भी अपनी मौसी के साथ जाता था तो मेरा सारा ध्यान इसी तरफ होता था कि जब मिस्टर स्मिथ आंटी के साथ कोई गलत काम करेंगे और छुप-छुप कर देख लेंगे। अब मेरे हार्मोन मेरे शरीर पर भी अपना रंग लेने लगे थे। मेरे स्तन बनने लगे थे, जाँघें मोटी होने लगी थीं और चूतड़ निकलने लगे थे। बाजू, कंधे, पीठ, कमर हर जगह ऐसे थे मानो मांस भर रहा हो। मेरे शरीर के ये उभार मुझे ऐसी कामुक बातों के लिए और अधिक उत्तेजित करते थे। आंटी और मिस्टर स्मिथ जब भी उनके बूब्स दबाते थे तो मेरा दिल यही होता था कि मिस्टर स्मिथ मेरे बूब्स को उसी तरह किसी दिन दबा दें।

लेकिन उनका ध्यान आंटी की ओर ज्यादा था क्योंकि मैं छोटा था और वह अक्सर मुझे बेटी और बच्चा कहकर बुलाते थे। मैं भी अक्सर अपनी माँ के बजाय अपनी मौसी के साथ जाता था ताकि मैं अपनी चाची की और अधिक इच्छाएँ देख सकूँ। एक दिन जब हम काम पर गए तो पता चला कि मिस्टर स्मिथ की पत्नी अपने बच्चों के साथ घर चली गई है। तो मौसी ने मुझसे कहा- अरे इलियाना, ऐसा करके तुम बस झाडू लगाकर अपनी मां के पास जाओ, मैं बाकी काम पूरा करके आ जाऊंगी। मैंने हां कहा लेकिन मुझे एहसास हुआ कि चाची मुझे यहां से निकालना चाहती हैं। हॉट मेड सेक्स स्टोरी

इसलिए मैंने अपनी मौसी से बिना झाड़ू पूछे ही बेडरूम में जाकर पोंछना शुरू कर दिया। मौसी ने सोचा कि शायद मैं चला गया हूँ तो कुछ देर बाद वो पोंछे लेकर ड्राइंग रूम में पोंछने लगी। इसमें मिस्टर स्मिथ भी बाहर से आए थे। जब उसने देखा कि मौसी अकेली है तो उसने झट से जाकर मौसी को पकड़ लिया। आंटी भी हंसने लगीं। मिस्टर स्मिथ ने कहा- क्या वो छोटी बच्ची चली गई? आंटी ने कहा- हां मैंने कहा था, चला गया होगा।

क्या बुरा आदमी है। लेकिन मैं उन दोनों का काम देखना चाहता था इसलिए चुपचाप बिस्तर के नीचे छिप गया। पहले तो मिस्टर स्मिथ ने मेरी आंटी को गले लगाया और किस करते रहे। फिर उसने खुद अपनी मौसी का ब्लाउज उतार दिया और मौसी ने खुद ही अपनी साड़ी को उतारना शुरू कर दिया। 1 मिनट में आंटी पूरी तरह से नंगी हो गईं। तो मिस्टर स्मिथ ने भी अपना पजामा उतार दिया। चड्डी में उनका लंड नीचे से दिखाई दे रहा था. आंटी खुद घुटनों के बल बैठ गईं और उन्होंने मिस्टर स्मिथ का कड़ा मुर्गा अपने हाथ में पकड़ लिया और वापस खींच लिया। तो मिस्टर स्मिथ की मोटी सफेद टोपी निकली।

स्मिथ के लिंग को देखकर आंटी मुस्कुरा दीं। तो स्मिथ ने कहा – देखिए क्या होता है फूहड़… चूस रहा है! मैं उसे उसकी फूहड़ बुलाना पसंद करता था; मेरा दिल चाहता था कि वह मुझे भी फूहड़ कहे। आंटी ने अपना मुंह खोला और मिस्टर स्मिथ का सफेद लंड अपने मुंह में चूसने लगीं। यह देखकर मुझे मिचली आ रही थी, ‘ऊ…’ कैसी आंटी… मिस्टर स्मिथ का डिक उसके मुंह में ले लिया। मुझे अजीब लगा लेकिन मौसी खूब मजे लेकर चूस रही थी। फिर उसे कुछ देर मुर्गा चूसते हुए देखने के बाद मुझे भी लगा कि शायद इसे चूसने में मजा आ रहा है। मिस्टर स्मिथ ने भी अपनी बनियान उतार दी, अब वह भी पूरी तरह से नंगे थे।

उसने मेरी चाची को कालीन पर लेटने के लिए कहा। आंटी ने अपने दोनों पैर खोल दिए। आंटी की टांगों के बीच बैठे मिस्टर स्मिथ ने अपना लंड मौसी की चूत पर रख दिया और फिर आगे बढ़ गए। मतलब उसका लंड मौसी की चूत में घुस गया था। उसके बाद मिस्टर स्मिथ आगे-पीछे होने लगे। दोनों बहुत खुश लग रहे थे। मिस्टर स्मिथ** ने कहा – तुम घुट-घुट कर मजा ले रहे हो, सिस्टरफकर… लेकिन मुझे तुम्हारी भाभी को ले जाना है, उसे मेरे नीचे रखना है। मौसी ने कहा- मुझ में क्या कमी है कि तुम उसके पीछे हो?

sex kahani नींद में चाची की चुदाई

उसने कहा – अरे तुम में कोई कमी नहीं है, बस उस पर दिल आ गया है, मुझे बहुत अच्छा लगता है कि वह इस जगह पर ऐसे ही लेटी हुई है और मैं उसे चोद रहा हूँ। आंटी ने कहा- अरे मैं कोशिश कर रही हूं, तुम्हारे भेजे हुए पैसे मैं तुम्हें दे दूंगी। मैं उसे उसके पति के खिलाफ भड़काती हूं। और मैं तुम्हारी बहुत प्रशंसा करता हूं, कि वह अपने पति से घृणा करती है, और तुम्हारी ओर आकर्षित होती है। मिस्टर स्मिथ ने कहा – तो यह किसी काम का था? मौसी ने कहा- अरे बहुत फायदा हुआ है। अब उनके घर में आए दिन मारपीट होती रहती है। लगता है जल्द ही वह मेरी बात मानेगी और आपसे दोस्ती करेगी। मैं उसकी लड़की को भी लाइन पर ला रहा हूँ, एक दिन तुम उसे भी चोदोगे।

मिस्टर स्मिथ ने कहा – अरे अब वह छोटी है, अब मैं उसे कैसे चोद सकता हूँ। मौसी ने कहा- अरे ये तो पूरी तरह से फूहड़ है, ये 19 साल की हो गई है। एक मैंने उसे ऊँगली करते हुए देखा। अब अगर वह अपनी चूत में उंगली कर रही है, तो इसका मतलब है कि उसे मुर्गा चाहिए। और क्या आपको ऐतराज है अगर वह मुर्गा आपका है? मिस्टर स्मिथ खुश हुए और बोले- अरे वाह, तो मजा आ जाएगा। कई साल हो गए हैं कि मैंने बालों वाली चूत की चुदाई नहीं की। भाभी की चूत के बाल शायद अभी तक नहीं आए हो आंटी ने कहा- अरे, मैंने देखा उसके बाल कहाँ आए या नहीं… आप खुद देख लीजिए। बिल्कुल कच्चा, पूरी तरह से कली।

मिस्टर स्मिथ ने कहा – मेरी बात सुनो, मुझे नहीं पता कि मैं उन दो माताओं, पहले बेटी और फिर माँ को कैसे चोदना चाहता हूँ। उस दिन जब वह तुम्हारे साथ यहाँ आई थी, उसी दिन मैंने उसके निप्पल देखे, क्या मस्त बूब्स थे। तुम मुझे उसकी चूत दिला दो, 10000 रुपये तुम्हारी! मौसी खुश हो गईं- अरे वाह सर, बहुत दयालु! लगता है आज मुझे ही तुझे अपनी गांड देनी है। मिस्टर स्मिथ ने कहा – हाँ, क्यों नहीं जब तक मैं तुम्हारी गांड से प्यार नहीं करता, मुझे ऐसा नहीं लगता कि कोई पागल है। उसके बाद मिस्टर स्मिथ ने आंटी से कहा- जाओ डॉगी बन जाओ!

आंटी ने बहुत खुशी के साथ मिस्टर स्मिथ की ओर पीठ की और डॉगीस्टाइल में कुतिया की तरह बन गई। और फिर मिस्टर स्मिथ ने अपने लंड पर थूक दिया और अपना लंड आंटी की गांड में डाल दिया। दर्द से तड़प रही थी आंटी- अरे साहब, जरा संभल जाओ… बहुत दर्द होता है, धीरे से डालो। मिस्टर स्मिथ ने कहा – अरे मैं इसे धीरे-धीरे डाल रहा हूं, बस एक बार इसे पूरी तरह से अंदर आने दो, उसके बाद मैं तुम्हें आराम से चोदूंगा। उसके बाद मिस्टर स्मिथ ने अपनी मौसी को खूब रगड़ा। बिस्तर के नीचे लेटे हुए मैंने अपनी उँगली अपनी चूत में डाल ली। उनकी मौसी चूम रही थी और यहाँ मैं अपनी चूत में ऊँगली कर रहा था। कितनी देर तक दोनों इसी तरह सेक्स करते रहे, मेरी चूत ने भी दो बार पानी छोड़ दिया।

मिस्टर स्मिथ ने जब मौसी के मुंह पर अपना सह गिराया, तो दोनों नहाने के लिए बाथरूम में चले गए। फिर मैं झट से बिस्तर के नीचे से निकली और घर की ओर चल पड़ी। दो दिन बाद मौसी अपने गांव चली गई और हम दोनों मिस्टर स्मिथ के घर का काम करने लगे। एक दिन मॉम हमें बाजार ले गईं और हम सभी के कपड़े मंगवाए। उसके बाद अब माँ मुझे अपने साथ हर घर में काम पर ले जाती है लेकिन पिताजी उसे मिस्टर स्मिथ के घर नहीं जाने देते, वह खुद वहाँ अकेले काम करने जाती है। जी हां, मम्मी-पापा के बीच झगड़े तेज हो गए हैं।

भाग दो जल्द आ रहा है

Leave a Comment

fourteen + 13 =